जिनवाणी

शांतिपथ प्रदर्शन (जिनेन्द्र वर्णी)

शांतिपथ-प्रदर्शन-जिनेन्द्र-वर्णी

Read More

परमेष्ठी के जन्मोत्सव को अवतरण दिवस मानना कितना उचित ?

आजकल मुनिराजों, आचार्यों, भगवंतों के जन्म दिवस को अवतरण दिवस, जन्म जयंती आदि विभिन्न संज्ञाओं से पुकारा जा रहा है। जिस पर कुछ चर्चाएं भी चल रही हैं, कि हमें…

Read More

समाज हित में श्री समाज का ऐतिहासिक फैसला

हुमड़पुरम में खुलेगा कोविड आइसोलेशन सेंटर वरिष्ठ जनों की बैठक में हुआ फैसला श्री समाज के वरिष्ठजनों की बैठक समाज के अध्यक्ष दिनेश जी खोड़निया की अध्यक्षता में संपन्न हुई।…

Read More

‘शौच पावन गंगा है, गंदा नाला नहीं, मोक्ष द्वार की चाबी है, अवरोधक ताला नहीं’

  उत्तम शौच उत्तम शौच का अर्थ है, लोभ कषाय का नाश करना। जीवन लोभ या लालच से मलिन है और शौच धर्म से पवित्र होता है। शौच का अर्थ…

Read More

‘आर्जव सीधा बांस है उसकी टेड़ी जड़ नहीं’

#उत्तम आर्जव धर्म:  जो न कुटिल चिंतन करता है न शरीर से कुटिलता करता है, न कुटिलत बोलता है और नहीं अपने दोषों को छिपाता है उसके आर्जव धर्म होता…

Read More
जिनागम | धर्मसार